डेटाबेस क्या है ? हिंदी में डेटाबेस की पूरी जानकारी |

आज का दौर डिजिटल चीजों का दौर है, आज के समय में हमारा इंडिया भी डिजिटल इंडिया बन रहा है| मेरे डिजिटल कहने का ये मतलब है कि हम प्रतिदिन जो भी दैनिक कार्य करते हैं उनमें से अनेक कार्य हम कंप्यूटर या फिर मोबाइल फ़ोन के माध्यम से करते हैं जैसे मैसेज करना, ईमेल करना , न्यूज़ पेपर पढना , बुक पढना, Online Shoping करना, टिकेट बुक करना, आदि |

पहले ये सभी काम पेपर वर्क में होता था जिसकी वजह से अनगिनत Applications और रिकार्ड्स अपने घर और ऑफिस में हम अलमारी इन सभी चीजों में स्टोर करके रखते थे, डाक्यूमेंट्स को इस तरह क्रमानुसार रखा जाता था जिससे जरूरत पड़ने पर आसानी से ढूंढा जा सकता था |

लेकिन अब वो जमाना चला गया जिन कामों में हमें कागज़ की जरूरत पड़ती थी अब उसकी जगह हम कंप्यूटर का इस्तेमाल करते हैं, डाक्यूमेंट्स को टेबल या अलमारी में नहीं बल्कि कंप्यूटर या इन्टरनेट में स्टोर करके रखा जाता है| कंप्यूटर के इन सभी डेटा को सीरियल बाई सीरियल रखा जाता है जिसे हम डेटाबेस कहते हैं|

database kya hai

अगर आपने कंप्यूटर को थोड़ा भी पढ़ा होगा तो आपने डेटाबेस का नाम जरूर सुना होगा जहाँ डेटा को सही और सुरक्षित तरीके से रखा जाता है अगर आप डेटाबेस के बारे में कुछ भी नहीं जानते तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि Tech Sidd की सपोर्ट से आज हम आपके लिए लेकर आये हैं डेटाबेस से जुडी सभी जानकारियाँ जिसे पढ़कर आपको डेटाबेस के बारे में पूरा ज्ञान मिल जायेगा |

तो बहुत बहुत स्वागत है आपका हमारे Tech Sidd के ब्लॉग में जहाँ आपको कंप्यूटर और इन्टरनेट से जुडी हुई बहुत सी जानकारियां आपकी अपनी शुद्ध हिंदी भाषा में पढने के लिए मिलती हैं, तो आज के इस लेख में हम सबसे पहले यह जानेंगे की डेटाबेस क्या है?

डेटाबेस क्या होता है ?

डेटाबेस जानकारियों का संग्रहालय है जहाँ सम्बंधित जानकारी का संकलन करके रखा जाता है इसे अगर किताबी भाषा में बताएं तो ‘डेटाबेस किसी भी इनफार्मेशन का एक छोटा सा हिस्सा होता है ये किसी व्यक्ति वस्तु, या स्थान से जुड़ा हुआ होता है जैसे नाम, उम्र, ऊंचाई , वजन, मोबाइल नंबर , व्यवसाय , घर का पता आदि ये सब किसी व्यक्ति से जुड़े हुए कुछ डेटा हैं डेटा अलग अलग कई प्रकार के रूप में हो सकते हैं जैसे – Text, Numeric, Alphanumeric, Image, File, Graph आदि जब इन डेटा को एक साथ Organize किया जाता है तो वो इनफार्मेशन बन जाता है और इनफार्मेशन के समूह से डेटाबेस बनता है|

डेटाबेस में डेटा और इनफार्मेशन को organised करके रखा जाता है जिससे जरूरत पड़ने पर इनफार्मेशन को आसानी से एक्सेस मैनेज और अपडेट किया जाता है साथ ही साथ ये डेटा शेयरिंग और सिक्यूरिटी का भी नियंत्रण करता है| इनफार्मेशन को स्टोर करने के लिए कुछ सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल किया जाता है जैसे MS Excel इसमें सारे डेटा को इनपुट करने के बाद कंप्यूटर के हार्ड डिस्क में स्टोर किया जाता है|

Ms Excel में डेटा स्टोर करने के लिए एक टेबल का उपयोग करते हैं जिसे हम कई सारे अलग अलग colom और Row में डिवाइड करते हैं ताकि हम आसानी से इसमें डेटा डाल सकें और जरूरत पड़ने पर इन्हें एक्सेस और अपडेट कर सकें| ठीक उसी तरह डेटाबेस में भी डेटा को एक टेबल में स्टोर किया जाता है जिनमें कई सारे Coloms और Rows होते हैं जिनकी वजह से उन्हें एक्सेस करना आसान हो जाता है| एक डाटा के अन्दर ऐसे कई सारे टेबल हो सकते हैं|

इन्टरनेट पर मौजूद कई सारी वेबसाइट हैं जो डेटाबेस का उपयोग करती हैं उदहारण के लिए आप फेसबुक को ही ले लीजिये जिसमें यूजर के बारे में कई सारे डेटा जैसे कि उसका नाम मोबाइल नंबर, प्रोफाइल पिक्चर, फ्रेंड्स, मैसेजेस, पोस्ट , स्टेटस आदि सभी डिटेल्स सर्वर में उपस्थित डेटाबेस में स्टोर रहते हैं अगर हम अपने फेसबुक अकाउंट से किसी एक व्यक्ति के बारे में जानकारी पाने के लिए सर्च करते हैं तब फेसबुक के डेटाबेस से हमें उस व्यक्ति के बारे में सारी जानकारी मिल जाती है|

इसी तरह और भी कई बड़े बड़े गवर्नमेंट, प्राइवेट और पर्सनल वेबसाइट हैं जो डेटाबेस का इस्तेमाल करते हैं| दोस्तों आजकल Online Banking, ATM, Online Ticket Reservation जैसी सुविधाओं में डेटाबेस का ख़ास यौगदान होता है इनके तहत सारी जानकारियाँ डेटाबेस में स्टोर रहती हैं जिन्हें अपनी सुविधानुसार एक्सेस किया जाता है जैसे कि आपके बैंक अकाउंट को आप कही भी हो अपने मोबाइल से या कंप्यूटर की मदद से उसे एक्सेस कर आवश्यक सूचनाएं प्राप्त कर सकते हैं|

और दोस्तों अब जानते हैं डेटाबेस के मुख्य Elements के बारे में

 

डेटाबेस के मुख्य Elements |

किसी भी डेटाबेस के मुख्य तीन Elements होते हैं|

1 –Field,  2 –Record,  3 –Table

1 – Field – किसी डेटाबेस के टेबल को फील्ड कहा जाता है जैसे जब आप कोई टेबल बनाते हैं तो उसमें SR No. Subject, Marks, इस तरह की हेडिंग्स देते हैं तो इन्हें फील्ड्स कहा जाता है|

2 – Record – किसी टेबल के Rows को हम रिकॉर्ड कहते हैं जैसे जो आप सीरियल नंबर दर्ज करते हैं तो टोटल नंबर की संख्या को रिकॉर्ड कहा जायेगा जैसे आपने कोई टेबल बनाई तो उसमें आपने मात्र 6 लोगो के डेटा को दर्ज किया तो इसको कहा जायेगा कि आपने 6 रिकॉर्ड दर्ज किये |

3 – Table – एक टेबल फ़ील्ड्स, रिकॉर्ड, से मिलकर बनती है इस टेबल में कई अलग अलग प्रकार का डाटा को दर्ज किया जाता है|

यहाँ पर आप एक टेबल में दर्ज डेटा के साथ तस्वीर को देख सकते हैं|

तो दोस्तों अब जानते हैं डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम के बारे में |

 

डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम |

दोस्तों डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम जिसे हम DBMS भी कहते हैं ये एक सॉफ्टवेयर है इसके जरिये यूजर डेटाबेस को Create, Define, Maintain, और Control करता है| DBMS के उदाहरन हैं – MySQL, Microsoft Office, Oracle, Visual Fox Pro 9, DB2 | DBMS का इस्तेमाल आम तौर पर डेटाबेस को मेंटेन करने के लिए किया जाता है मतलब आप डेटा को डेटाबेस में इन्सर्ट , एडिट डिलीट , एक्सेस और अपडेट कर सकते हैं| जो डेटा बेकार है किसी काम का नहीं है तो उसे आप डिलीट कर सकते हैं और जो डेटा गलत हो गया तो आप उसे एडिट करके उसमें सुधार कर सकते हैं और यदि आपको कभी भी अपने डेटाबेस से किसी की जानकारी चाहिए तो तुरंत आप डेटाबेस से उसे एक्सेस कर सकते है| तो दोस्तों ये सारा काम DBMS सॉफ्टवेयर के जरिये किया जाता है|

तो चलिए दोस्तों अब जानते हैं कि डेटाबेस के कितने प्रकार होते हैं|

डेटाबेस के प्रकार |

डेटाबेस में डेटा को कैसे Store, Organized, और manipulate किया गया है और इसका स्ट्रक्चर कैसा होना चाहिए ये डेटा Modal से पता चलता है इससे ये भी पता चलता है कि डेटाबेस में डेटा एक दुसरे से किस प्रकार जुड़े रहते हैं और उनके बीच में सम्बन्ध कैसा है|

दोस्तों तीन तरह के डेटामोडल्स होते हैं| Hierarchical Model, Network Model, Relational Model |

1- Hierarchical Database Model – इस प्रकार के डेटाबेस में डेटा टेबल के साथ Tree Structure के रूप में व्यवस्थित किया जाता है इस मोडल में रिकार्ड्स को आपस में जोड़ने के लिए ट्री स्ट्रक्चर को फॉलो किया जाता है, यहाँ पर सम्बन्ध को चाइल्ड और पैरेंट के रूप में दिखाया जाता है| उदाहरन के लिए एक कॉलेज में बहुत सारे कोर्सेस, प्रोफेसोर्स और स्टूडेंट्स होते हैं तो कॉलेज एक पैरेंट हुआ और प्रोफेसोर्स और स्टूडेंट्स उसके चाइल्ड हुए|

database kya hai

 

2- Network Modal – इस प्रकार के डेटाबेस में डेटा को रिकॉर्ड के रूप दर्शाया जाता है और डेटा के बीच सम्बन्ध लिंक के रूप में दर्शाया जाता है| ये मोडल काफी पावरफुल है लेकिन complected भी है क्योंकि इसमें बहुत सारे नोट्स या टेबल्स आपस में लिंक्ड रहते हैं|

Network database modal

 

3- Relational Model – ये मोडल पावरफुल और सिंपल है इस मोडल का स्ट्रक्चर टेबल जैसा ही होता है टेबल को डेटाबेस की भाषा में Relation कहते हैं इसलिए इसका नाम भी Relational Model है ये टेबल जैसा होता है इसलिए इसमें Rows और Coloms होते हैं| इस मोडल में यूनिक फील्ड को Key कहते हैं और इन Keys के जरिये टेबल्स को आपस में कनेक्ट किया जाता है|

database kya hai

 

 चलिए अब जानते हैं डेटाबेस के फायदों के बारे में|

 

डेटाबेस के फायदे |

1-      Database के जरिये कम जगह में भी ज्यादा data को store किया जाता जा सकता है|

2-      किसी भी जानकारी को आसानी से एक्सेस किया जा सकता है|

3-      नए डेटा को इन्सर्ट करना, पुराने डेटा को एडिट करना और डिलीट करना आसान होता है|

4-      Data को अलग अलग प्रकार से Short किया जा सकता है|

5-      एक ही Database को कई सारे Users एक साथ Access कर सकते हैं|

6-      Paper File की तुलना में अधिक सिक्यूरिटी प्रदान करता है क्योंकि यहाँ बिना इजाजत के कोई भी Database को Access नहीं कर सकता|

7-     Redundancy को कम करता है एक ही तरह के Data को बहुत सारी जगह Duplication को हम Data Redundancy कहते हैं यानी कि जिस डाटा को एक से अधिक बार दिया गया हो उसे डेटाबेस से हटा दिया जाता है|

8-    Backup, और Recovery जैसी सुविधाएँ प्रदान करता है डेटाबेस Fallure जैसी समस्याएँ कभी भी हो सकती हैं ऐसे समय में यदि डाटा को रिकवर नहीं किया गया तो बहुत बड़ा नुक्सान हो सकता है इसीलिए DBMS सॉफ्टवेयर बैकअप और रिकवरी की भी सुविधाएँ देता है|

चलिए अब जानते हैं कि डेटाबेस का उपयोग कहाँ होता है|

डेटाबेस का उपयोग कहाँ होता है ?

डेटाबेस का उपयोग अब हर जगह पर होता है या ये भी कह सकते हैं कि डेटाबेस के बिना इन्टरनेट कुछ भी नहीं है डेटाबेस का उपयोग बैंकिंग, रेलवे रिजर्वेशन सिस्टम, एयरलाइन्स, लाइब्रेरी मैनेजमेंट सिस्टम स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी, सोशल मीडिया साइट्स जैसे फेसबुक, Instagram, ट्विटर, ऑनलाइन शोपिंग साइट्स जैसे – अमेज़न, फ्लिप्कार्ट, स्नेपडील, इसके अलावा गवर्नमेंट Organisation इत्यादि जगहों पर किया जाता है|

क्या सीखा आपने –

आज आपने जाना की डेटाबेस क्या होता है यह कितने प्रकार के होते हैं? डेटाबेस के क्या फायदे क्या होते हैं इसके अलावा डेटाबेस का उपयोग कहाँ कहाँ होता है इस तरह की जुडी हुई कई जानकारियाँ आपने इस लेख में पढ़ी उम्मीद करता हूँ इस लेख में दी गयी जानकारी आपको पसंद आई होगी , अगर इससे जुड़ा आपका अपना कोई भी सवाल है तो Tech Sidd में कमेंट जरूर करें | धन्यबाद |

इन्हें भी पढ़ें – 

  • कंप्यूटर एक्सपर्ट (Expert) कैसे बनें ?

  • डेटाबेस क्या है ? हिंदी में डेटाबेस की पूरी जानकारी |

  • सुपर कंप्यूटर क्या है ? [2022]

  • ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?[2022]

  • Central Processing Unit (CPU) क्या है ? GPU क्या है ? इन दोनों के काम |

  • रैम (Ram) क्या है ? [2022] रैम कैसे काम करती है?

  • हार्डवेयर क्या होते हैं ? [2022 ] कंप्यूटर हार्डवेयर के भाग और उनके काम |

  • Application Software क्या होते हैं?

  • सॉफ्टवेयर क्या होता है? 2022 – सॉफ्टवेयर का कंप्यूटर में काम क्या होता है?

  • कम्प्यूटर क्या है ? कंप्यूटर की पूरी जानकारी।

  • M.S. Word क्या है ? पूरी जानकारी हिंदी में।

  • Leave a Comment

    Your email address will not be published. Required fields are marked *

    Realme 12 Pro Plus 5g Price In India | Realme 12 Pro+5g कीमत ? “20,000 में Poco X6 5g: नए साल का नया फोन, हाई-एंड फीचर्स और बेहतरीन वैल्यू के साथ!” Oppo Reno 11 Pro & 11 5g Launchged In India : Oppo Reno Series का 11 Pro & 11 हुए लांच ये रहे प्राइस | 50Mp वाला यह 5G फ़ोन सिर्फ 12,000 में मिल रहा है | फ़ोन में सभी फीचर्स हाई क्वालिटी के और दाम सिर्फ नाम मात्र | Redmi Note 13 Seies में लांच हुए फ़ोन, जानें इनकी कीमत क्या है ? 12 GB रैम और 256 GB इंटरनल स्टोरेज के साथ लॉन्च होगा Oppo का ये घातक फोन, कीमत बस इतनी